Tuesday , January 23 2018
Home / आयुर्वेदिक उपचार / पागलपन का इलाज घरेलु उपाय

पागलपन का इलाज घरेलु उपाय

पागलपन का इलाज

पागलपन का इलाज
पागलपन का इलाज

पागलपन के लक्षण व कारण:

इसरो की गणना मानसिक रोगों में की जाती है अत्यधिक चिंता महर्षि क्रोध शोक अथवा विश का सेवन करने से यह रोग उत्पन्न होता है कई बार काम वासना की आकृति मंदाकिनी नदी के कारण भी यह रोग उत्पन्न हो जाता है जोर जोर से चिल्लाना कपड़े फाड़ना रोना हंसना नींद ना आना गिड़गिड़ाना तोड़-फोड़ करना आदि इस रोग के लक्षण होते हैं इस रोग में रोगी का बोल्ड सीन हो जाता है तथा उसे नींद नहीं आती। रोगी पूरी तरह अपना आपा खो बैठता है। उसे किसी भी बात की समझ नहीं रहती। वह अपनी धुन में कुछ भी करते रहता है। इसे मानसिक रोग भी कहते है| इस पागलपन का इलाज फलों के सेवन से भी किया जा सकता है।

फलों द्वारा पागलपन का घरेलु उपचार:

  • अनार:

    15 ग्राम अनार के पत्ते, 15 ग्राम ताजा गुलाब के फूल को मिलाकर लगभग 500 ग्राम पानी में इतना उबाले कि पानी एक चौथाई रह जाए। फिर इसे छानकर इसमें 20 ग्राम घी मिलाकर हर रोज पिए। यह पागलपन को दूर करने के लिए एक चमत्कारिक औषधि है।

  • तरबूज:

    तरबूज पागलपन के लक्षण वाले रोगी को हर रोज तरबूज का सेवन कराए। हर रोज तरबूज का सेवन करने से मानसिक संतुलन ठीक रहता है। इससे बहुत लाभ होता है।

  • अमरुद:

    सुबह शाम 250 ग्राम अमृत खाए यह प्रयोग लगभग 6-7 सप्ताह तक जारी रखें। स्वाद के लिए इसमें नींबू व काली मिर्च भी मिला सकते हैं। इस से इस रोग में काफी लाभ मिलेगा। इससे मानसिक संतुलन बना रहता है व पागलपन दूर होता है।

  • फलों का रस:

    पागलपन के लक्षण वाले रोगी को नियमित रूप से फलों का रस पिलाना चाहिए जिससे उसकी मानसिक शक्ति बढ़ेगी तथा दिमाग में ताजगी बनी रहेगी फलों के रस में गाजर संतरा मौसमी अनस व सेव का रस ज्यादा लाभदायक होता है। फलों के रस से मानसिकता तथा शारीरिक स्वास्थ्य बना रहता है।

बेहोशी का इलाज घरेलु उपचार

मिर्गी का इलाज

पेट कम करने के उपाय हिंदी में

loading...

Check Also

चेहरे के दाग धब्बे हटाने के लिए उपाय

चेहरे के दाग धब्बे हटाने के लिए उपाय

चेहरे के दाग धब्बे हटाने के लिए उपाय नमस्कार दोस्तों, आप हमेशा ही नेट पर …

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *